Online Bank KYC Kaise Kare: बैंक केवाईसी घर बैठे ऑनलाइन कैसे करें?

Spread the love

Online Bank KYC Kaise Kare: भारतीय रिजर्व बैंक ने सभी बैंकों और वित्तीय संस्थानों को यह निर्देश दिया है कि वह अपने सभी ग्राहकों के पहचान और उनके एड्रेस का वेरीफाई करें, जो उनके माध्यम से वीडियो ट्रांजैक्शन कर रहे हैं। बैंक अपने ग्राहकों के पत्ते और पहचान की वेरीफाई करने के लिए केवाईसी डॉक्यूमेंट की मांग करता है। केवाईसी प्रक्रिया पूर्ण करके आप अपने बैंक से किसी तरह की लेनदेन आसानी से कर सकते हैं। केवाईसी डॉक्यूमेंट मिलने के पश्चात बैंक आपकी पहचान पाता और वित्तीय इतिहास की जानकारी से अवगत हो जाता है,

जिससे कि बैंक को यह जानने में सहायता होती है कि आपने जो निवेश किया है और जो धन चुना है वह किसी अवैध गतिविधि से तो नहीं आया है। केवाईसी सत्यापन के लिए बैंक में आपको कुछ डाक्यूमेंट्स भी जमा करने होते हैं। अगर आप अभी तक केवाईसी डॉक्यूमेंट के बारे में नहीं जानते हैं, तो आज मैं आपको इस पोस्ट के माध्यम से बैंक केवाईसी ऑनलाइन कैसे कर सकते हैं ? इसके बारे में सभी जानकारी विस्तार पूर्वक बताने जा रहा हूं। इसके लिए आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना होगा।

Online Bank KYC Kaise Kare
Online Bank KYC Kaise Kare

 – केवाईसी क्या है (KYC)

केवाईसी का पूरा नाम होता है KYC (Know Your Customer) इसका हिंदी में अर्थ है कि आप अपने ग्राहक को पहचाने। इस पहचान की प्रक्रिया में बैंक अपने ग्राहक को पहचानने के लिए अलग-अलग दस्तावेजों की मांग करता है। यह सभी दस्तावेज केवाईसी दस्तावेज कहलाते हैं। जब कोई व्यक्ति अगर नया खाता खुलवाता है या फिर पहले से खुलवाए गए खाते को निष्क्रिय होने के लिए हो जाने पर उन्हें सक्रिय करवाने जाता है, तो बैंक की तरफ से केवाईसी डॉक्यूमेंट की मांग की जाती है।

इसके अतिरिक्त फिक्स्ड डिपॉजिट और म्युचुअल फंड जैसी चीजों में निवेश करने से पहले भी केवाईसी डॉक्यूमेंट जमा करना होता है लेकिन इस तरह की निवेश में ग्राहक को सिर्फ एक बार केवाईसी करने पड़ते हैं। भारत के भारतीय रिजर्व बैंक में केवाईसी बस 2002 में अस्तित्व में आया था तथा वर्ष 2004 से दिसंबर 2005 तक सभी बैंकों के ग्राहकों के लिए इसे अनिवार्य कर दिया गया।

ई – केवाईसी क्यों की जाती है ?

भारतीय रिजर्व बैंक ने सभी बैंकों और वित्तीय संस्थानों में अपने ग्राहकों की पहचान करने के लिए निर्देश दिए हैं ताकि ग्राहक केवाईसी के आधार पर बिना किसी समस्या के आसानी से लेनदेन कर सके। केवाईसी प्रक्रिया के माध्यम से बैंक या वित्तीय संस्थानों में ग्राहक के पत्ते और उनके पहचान की वेरीफाई की जाती है। अगर आप किसी तरह के ऑनलाइन पेमेंट प्लेटफार्म इत्यादि का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको ₹10000 या अधिक राशि का ट्रांजैक्शन या मोबाइल रिचार्ज करने के लिए केवाईसी की प्रक्रिया को पूरा करना पड़ता है। केवाईसी वेरीफिकेशन करने के बाद ट्रांजैक्शन की लिमिट बढ़ा दी जाती है।

केवाईसी के लिए आवश्यक डाक्यूमेंट्स

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • वोटर आईडी कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • पासबुक या बैंक स्टेटमेंट जो 3 महीने से अधिक पुराना हो।

बैंक केवाईसी क्या है ?

अब मैं आपको बैंक केवाईसी क्या होता है ? इसके बारे में बताने जा रहा हूं। अगर कोई व्यक्ति किसी बैंक में अपना खाता खुलवाते हैं और अपने अकाउंट से 6 महीना या 1 वर्ष तक कोई भी ले दिन का काम नहीं करता है, तो उसे स्थिति में बैंक अकाउंट को केवाईसी वेरीफिकेशन के लिए डाल दिया जाता है। जिसके लिए ग्राहकों को अब बैंक में केवाईसी करवाने के लिए आईडी प्रूफ देने होते हैं। इसके लिए केवाईसी फॉर्म के साथ आपको आधार कार्ड, पैन कार्ड, दो पासवर्ड साइज फोटो इत्यादि जमा करने होते हैं। केवाईसी जमा करने के बाद आपको अपने अकाउंट में कुछ रुपया भी जमा करना या निकलना होता है क्योंकि अकाउंट को सक्रिय करने के लिए ट्रांजैक्शन बहुत ही ज्यादा आवश्यक होता है।

केवाईसी के फायदे

  • अगर आपके KYC करवाते हैं तो आपका बंद बैंक अकाउंट दोबारा से चालू हो जाता है।
  • बैंक ग्राहकों से केवाईसी फॉर्म भरवा कर उसके वर्तमान पते का पता लगाया जाता है।
  • अगर आपने अपना केवाईसी करवा रखा है तो उसे स्थिति में अगर किसी खाते पर कोई भी समस्या आती है, तो बैंक आपसे संपर्क करता है।
  • बैंक केवाईसी करवाने से आपका खाता सुरक्षित हो जाता है, जिससे कोई अन्य व्यक्ति फैट नहीं कर पता है।
  • बैंक में केवाईसी अपडेट करवाने के बाद आप अपने चेक बुक और एटीएम को भी आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं और इसके साथ ही साथ ट्रांजैक्शन की लिमिट भी बढ़ा दी जाती है।
  • बैंक केवाईसी अपडेट होने से सरकारी योजना से आने वाला पैसा भी आपको डीबीटी के माध्यम से आसानी से आपके बैंक अकाउंट में जमा हो जाता है।

Online Bank KYC Kaise Kare ?

  • ऑनलाइन केवाईसी करवाने के लिए आपको बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन के लिए KRA घर या कार्यालय में जाना पड़ता है।
  • सबसे पहले आप किसी KRA या फंड हाउस की वेबसाइट पर जाए।
  • केवाईसी के लिए कुछ KRA इस तरह से है :- CAMS, NDML, CVL, NSE और कार्वी।
  • यहां पर आपको अपने आधार के अनुसार सभी जानकारी को भर देना होगा।
  • उसके बाद आपके आधार से रजिस्टर मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी मिलेगा, जिसे आपको भरकर वेरीफाई कर लेना होगा।
  • उसके बाद आपको आवेदन फार्म जमा करना होगा।
  • यूआईडीएआई के वेरीफाई होने के बाद KRA आपके केवाईसी को सिक्योरिटी दे देता है।
  • आप KRA पोर्टल पर जाकर अपने पैन कार्ड का इस्तेमाल करके केवाईसी आवेदन की स्थिति का पता भी लगा सकते हैं।

घर बैठे Online Bank KYC कैसे करें ?

घर बैठे ऑनलाइन बैंक केवाईसी करवाने के लिए आपको सबसे पहले किसी KRA या फंड हाउस की वेबसाइट पर जाना होता है। इसके बाद आपके ऊपर बताए गए अनुसार बायोमैट्रिक आईडेंटिफिकेशन के लिए ऑनलाइन आवेदन पर जाना होता है। इसके बाद फंड हाउस या कार्यकारी फॉर्म में दर्ज पत्ते का निरीक्षण करना होता है। अब आपको मूल डॉक्यूमेंट में दिखाए गए सभी बायोमेट्रिक को प्रदान करना होगा। इस तरह से आवेदन आपका जमा हो जाएगा और केवाईसी पूर्ण हो जाएगा।

ऑफलाइन केवाईसी कैसे करें ?

एक ग्राहक ऑफलाइन भी अपना केवाईसी कर सकता है हालांकि ऑफलाइन में KRA द्वारा केवाईसी को मंजूरी मिलने में 7 दिन का समय लग जाता है।

  • ऑफलाइन केवाईसी करने के लिए आपको केवाईसी फॉर्म को डाउनलोड और प्रिंट आउट करके निकाल लेना होता है।
  • इस फॉर्म में आप अपने आधार और पैन कार्ड की सभी जानकारी को भर लेना होता है।
  • इसके बाद आपको KRA कार्यालय में जाकर केवाईसी आवेदन फार्म को जमा करना होता है।
  • केवाईसी आवेदन के साथ आपको पहचान और पत्ते का प्रमाण पत्र भी जमा करना होता है।
  • इसके अतिरिक्त कुछ मामलों में आपको बायोमेट्रिक भी जमा करना पड़ सकता है।
  • अब आपको एक आवेदन संख्या मिलती है, जिसका इस्तेमाल करके आप केवाईसी की स्थिति का आसानी से पता लगा सकते हैं।

यह भी पढ़े


Spread the love

Leave a Comment